रविवार, 19 मई 2013

छाँव के टुकड़े

इतिहास को अनदेखा करना,
खुद को नज़रंदाज़ करना

मेरी दौलत है.


नादानी के तले
मेरी छाँव के टुकड़े
नहीं होते.






2 टिप्‍पणियां:

Parul kanani ने कहा…

bahut hi umda :)

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

बहुत खूब

Related Posts with Thumbnails