शनिवार, 23 अप्रैल 2011

खिड़की में खो जाता है

दिखते-दिखते सब उस खिड़की में खो जाता है.
सुबह, शाम, तारे, आकाश.

कुछ परवाज़ें,
कुछ खुरशीद जो सहमे और ज़र्द उगे थे
इन जाड़ों में.

दिखते-दिखते सब . .

कोई टिप्पणी नहीं:

Related Posts with Thumbnails