शनिवार, 2 अप्रैल 2011

उसके बाद

मैं सूरज की पहली 
किरण के साथ उठी 
और उसके बाद . .
धीरे-धीरे रात की 
ओर कदम बढाए.


मैंने कुछ धोखे किये,
और उसके बाद . .
अपनी बीमार रूह को 
उपचार से दूर रखा.


मैंने 'आज' को 
नज़रअंदाज़ किया,
कमर तक स्मृतियों में 
डूबी थी मैं.


Nate Pritts की "And then Afterward" से प्रेरित.





1 टिप्पणी:

Parul ने कहा…

jaise ki ab hum doobe hain :)

Related Posts with Thumbnails